आर.पी. शुक्ल की कविता उनके ही स्वर में

श्री आर.पी. शुक्ल के स्वर में सुनिये उनकी कविताएं !

0
1138

श्री आर.पी. शुक्ल (सेवा निवृत्त आई.ए.एस. एवं पूर्व मंडलायुक्त, सहारनपुर) बहुमुखी प्रतिभा के धनी व्यक्तित्व हैं जो एक कुशल, कर्तव्यनिष्ठ प्रशासक के रूप में जहां – जहां भी तैनात रहे, जनता के मध्य अत्यन्त सराहे गये। परन्तु उस कठोर प्रशासनिक व्यक्तित्व के पीछे एक सहृदय कवि, गीतकार, लेखक, उपन्यासकार, कथाकार, मूर्तिकार, चित्रकार भी मौजूद है, यह उनसे मिलने वालों को धीरे-धीरे ही ज्ञात हो पाता था। इस कवि की कुछ गिनी – चुनी रचनाओं को एक ऑडियो एल्बम के रूप में भी संकलित किया गया है। यहां हम आपके लिये प्रस्तुत कर रहे हैं – इसी एल्बम (एहसास) में सम्मिलित दो कविताएं जिनको स्वर भी स्वयं श्री आर.पी. शुक्ल ने ही दिया है।

तलाश!

पांव के निशां

आपकी प्रतिक्रिया की हमें प्रतीक्षा रहेगी!

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY