शिक्षण संस्थाओं में मनाया गया पृथ्वी दिवस

छात्राओं ने पर्यावरण संरक्षण व ठोस कचरे के प्रबन्धन का ज्ञान प्राप्त किया।

0
167

सहारनपुर (22 अप्रैल) :  सहारनपुर के विभिन्न शिक्षण संस्थानों द्वारा आज ’धरती दिवस’ मनाया गया और आचार्यों व छात्र – छात्राओं ने धरती की रक्षा हेतु पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया।

हिन्दू कन्या इंटर कॉलेज में विद्यालय और परचम संस्था के संयुक्त कार्यक्रम में पृथ्वी दिवस को ’धरती बचाओ’ संकल्प के साथ मनाया गया। इस अवसर पर बोलते हुए प्रख्यात पर्यावरणविद्‌ डा. एस. के. उपाध्याय व द सहारनपुर डॉट कॉम के संस्थापक सुशान्त सिंहल ने छात्राओं को पर्यावरण  संरक्षण हेतु व्यावहारिक उपाय बताये।  डा. उपाध्याय ने कहा कि आज दुनिया के 197 देश 47वां पृथ्वी दिवस मना रहे हैं।  यह पृथ्वी दिवस हर व्यक्ति के लिये अपने दायित्वों को समझने का दिवस है। अंधाधुंध शहरीकरण और बेतरतीब बढ़ते वाहनों से पृथ्वी पर दबाव बढ़ा दिया है। जयवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग से मानव, पशु व वनस्पति सभी प्रभावित हैं। पृथ्वी का तापमान बढ़ेगा तो पिघली हुई बर्फ धरती के विनाश का कारण बनेगी।  इसके लिये हमें पेड़ लगाने होंगे और पॉलिथिन का उपयोग कम से कमतर करना होगा।

द सहारनपुर डॉट कॉम के संपादक सुशान्त सिंहल ने छात्राओं को बताया कि वह पर्यावरण संरक्षण हेतु अपने – अपने स्तर पर भी बहुत सार्थक प्रयास कर सकती हैं।  सहारनपुर में 300 टन ठोस कचरा हर रोज़ निकलता है, जिसका निपटारा वैज्ञानिक तरीके से नहीं हो पाता है।  आप सब अपने अपने घर में कूड़े को यदि छांट कर ही कूड़ेदान में फेंकें तो ये 300 टन कूड़ा घट कर मात्र 50 टन रह जायेगा। उन्होंने कहा कि बिना प्रोसेस किया हुआ कूड़ा न केवल धरती के लिये बल्कि मानवों और पशुओं के लिये भी हानिकर है और अनेकानेक बीमारियों को जन्म देता है।

डा. कुदसिया अंजुम – प्रधानाचार्या ने एक शेर के माध्यम से पर्यावरण के खतरों के प्रति आगाह किया –

“सावन की पुरवइया गायब, पोखर ताल तलैया गायब,
कट गये सारे पेड़ गांव के, कोयल और गौरया गायब॥
कच्चे घर तो पक्के बन गये, घर-घर से अंगनैया गायब !!

अध्यापिका सुषमा और सिम्मी बजाज ने कहा कि जैसे हमने अपने लालच में हरियाली का विनाश किया है, वैसे ही हमें अब हरियाली को वापिस लाना होगा तभी हम सुरक्षित रह सकते हैं।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए अध्यापिका दया शर्मा ने छात्राओं को शपथ दिलाई कि वह कूड़ा करकट सार्वजनिक स्थानों पर नहीं फेंकेंगी व वर्षा जल का संरक्षण करेंगी। इस अवसर पर पोस्टर प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया जिसमें पारुल प्रथम, इकरा द्वितीय व खुशी सैनी तृतीय रहीं। कार्यक्रम का समापन विद्यालय परिसर में एलोवेरा, आंवला, तुलसी, नीम्बू आदि के पेड़ लगा कर किया गया।

मुन्नालाल गर्ल्स डिग्री कालेज

मुन्नालाल गर्ल्स डिग्री कालेज में 26 यू पी एन सी सी की गर्ल्स बटालियन के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल जी.एस. सरन के निर्देशानुसार स्वच्छ भारत – स्वस्थ भारत जागरुकता मिशन का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में छात्राओं को सूखी पत्तियों व कूड़े को जलाने से होने वाली हानियों से अवगत कराया गया। एन.सी.सी. अधिकारी मेजर पंकज छाबड़ा ने बताया कि पत्तियों को जलाने से यदि उसका धुआं शरीर में जाता है तो उससे आक्सीजन की शरीर में कमी हो जाती है। धुएं में उपस्थित रसायनों से शरीर में विषाक्तता होती है।

इस अवसर पर कालेज की प्राचार्या डा. मधु जैन व अन्य प्रवक्ताओं ने छात्राओं से विद्यालय परिसर को साथ – सुथरा बनाये रखने का आह्वान किया। उक्त कार्यक्रम में यूनिट के हवलदार राकेश कुमार, नायब सूबेदार रंजन श्रीवास्तव, आरती सैनी, स्वाति सैनी, अंजलि गौतम, आरती, प्रीति, अनिता, कविता आदि की उपस्थिति रही।

 

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY